नशे की चुनौती से निपटना जरूरी

देश के नौजवान तंबाकू, अफीम, ड्रग्स, चरस, गांजा, भांग, शराब, हेरोइन तथा कोकिन जैसे मादक पदार्थों और नशीले पदार्थों की ओर ज्यादा से ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं | जिससे मादक पदार्थों की खपत की मात्रा हर साल तेजी से बढ़ रही हैं | सुरक्षा एजेंसियों को चकमा देकर अवैध तरीके से भारी मात्रा में नशीले पदार्थों का आयात हो रहा हैं | देश में नशे का कारोबार इस तरह फैल चुका है कि आए दिन लाखों रुपयों के नशीले पदार्थों के पकड़े जाने के समाचार मिलते रहते हैं | जाहिर है कि भ्रष्ट नेताओं तथा पुलिस की मिलीभगत से यह कारोबार दिनों-दिन फलते-फूलते जा रहा हैं | ज्यादातर देखा जाता है कि ऐसे नेटवर्क फैलाने में पुरुषों के साथ महिलाओं का इस्तेमाल ज्यादा हो रहा हैं | नशे की चुनौती से निपटने के लिए परिवार, समाज, सरकार, कानून और मीडिया को आगे आना होगा | सर्वोच्च न्यायालय द्वारा केंद्र सरकार व राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर अवैध रूप से रूप से आपूर्ति करने वाले लोगों पर कार्यवाही करें |
मुकेश कुमावत बोराज, जयपुर

Leave your comment